Google+ Badge

Google+ Badge

Google+ Badge

मंगलवार, 5 जुलाई 2016

अंतराष्ट्रीय गुर्जर दिवस 22 मार्च को ही मनाए- केपी सिंह गुर्जर (राष्ट्रिय महासचिव – भारतीय गुर्जर परिषद)

अंतराष्ट्रीय गुर्जर दिवस 22 मार्च को ही मनाए- केपी सिंह गुर्जर (राष्ट्रिय महासचिव भारतीय गुर्जर परिषद) 
22 MARCH : International Gurjar Day. 
प्रश्न -1 अंतर्राष्ट्रीय गुर्जर दिवस 22 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है ?
उत्तर - 22 मार्च को महान गुर्जर सम्राट कनिष्क का राज्य रोहण हुआ था। इसलिए प्रतिवर्ष 22 मार्च को अंतराष्ट्रीय गुर्जर दिवस के रूप में मनाया जाता है | गुर्जरों के पूर्वज सम्राट कनिष्क ने शक संवत के नाम से एक नए संवत शरू किया जो आज भी भारत में चल रहा हैं| शक संवत संवत को सम्राट कनिष्क ने अपने राज्य रोहण के उपलक्ष्य में 78 ईस्वी में चलाया था| इस संवत कि पहली तिथि चैत्र के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा (22 मार्च) होती हैं जोकि विश्व विख्यात सम्राट कनिष्क महान के राज्य रोहण की वर्ष गाठ हैं
प्रश्न - 2 : अंतर्राष्ट्रीय गुर्जर दिवस कैसे मनाएं?
उत्तर - गुर्जर समाज की सभी संस्थाएं अपने-अपने क्षेत्र में सभा-सम्मेलनों का आयोजन करें। सम्राट कनिष्क की फोटो पर माल्यार्पण करें और उन से सम्बंधित व्याख्यान दिए जाएं। जहाँ संभव हो इतिहासकारों को भी आमंत्रित किया जाये।
निवेदक : केपीएस गुर्जर राष्ट्रिय महासचिव भारतीय गुर्जर परिषद |


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें