Google+ Badge

Google+ Badge

Google+ Badge

शनिवार, 29 जुलाई 2017

सन सत्तावन की क्रांति

सन सत्तावन की थी चार जुलाई
जब गोरो ने पाँचली गांव पर तोप चलवाई
बादल घनघोर गगन में घुमड रहा था
नया बलिदान इतिहास में जुड रहा था
जंग ए आजादी का ज्वार जोरो पर था
क्रान्तिकारियो से बदला लेने का
खून सवार अन्यायी गोरो के सिर पर था
मेरठ के गाँवो में अंधाधुंध गोलियाँ चलवाई
सन सत्तावन की थी चार जुलाई
जब गोरो ने  कोतवाल के
गांव वालो को फांसी लगाई
मौसम उन दिनो बरसाती था
हर ह्रदय क्रान्ति के जुनून में जज्बाती था
ब्रितानी हुकूमत का तख्ता पलट रहा था
क्रान्ति के लिये उठाया कोतवाल का बीडा
देशव्यापी गदर में बदल रहा था
अंग्रेजो की आँखो आगे उनका
जुल्मो सितम का सामान जल रहा था
शेर ए गदर कोतवाल धन सिहँ गुर्जर ने
क्रान्ति की ऐसी मशाल जलाई
फिर आई सन सत्तावन की चार जुलाई
जब गोरो ने मेरठ में सैकडो को फाँसी लगाई ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें