Google+ Badge

Google+ Badge

Google+ Badge

रविवार, 13 अगस्त 2017

गुर्जर समाज का अहम निर्णय 24 अगस्त को मिहिरोत्सव और हर वर्ष की भांति 22 मार्च को अंतरराष्ट्रीय गुर्जर दिवस मनाएगे

याद है आपको कि
"सौ कोस का गुर्जर एक हो जाता है |"
समाज में कुछ लोग दो-दो अंतराष्ट्रीय गुर्जर दिवस मना कर ना सिर्फ बांटने का कार्य कर रहे है बल्कि समाज को मज़ाक बनवा रहे है | इनको अपनी जिम्मेवारी का एहसास होना चाहिए |
ऐसे में वो सभी गुर्जर जो इस महासभा से जुड़े नहीं है उनकी जिम्मेवारी ज्यादा बढ़ जाती है कि वह इस दिशा में कुछ करें | इसलिए आप सभी से अनुरोध है कि अब से भविष्य में हम मिहिर भोज़ जयंती को हर वर्ष 'मिहिरोत्सव' के रूप में मनाये | अंतराष्ट्रीय गुर्जर दिवस 22 मार्च को ही  मनता रहना चाहिए | आखिर एक महासभा की मनमानी सारा गुर्जर समाज क्यों सहन करें | गुर्जर समाज 'एक महासभा' से बहुत विस्तृत और विशाल है |
मिहिरोत्सव को आप छोटे-बड़े स्तर पर मनाये | बहुत छोटे स्तर पर ये किया जा सकता है कि कुछ भाई-बहन कुछ 40-50 गरीबों को पूरी-सब्जी खिला दे या बाँट दे |
सौ कोस के गुर्जर को एक होने की आवश्यकता है आज |
कृपया ज्यादा से ज्यादा शेयर करें |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें