Google+ Badge

Google+ Badge

Google+ Badge

गुरुवार, 2 नवंबर 2017

मूलभूत अधिकारों को लेकर 27 करोड़ गुर्जर होंगे एकजुट

भारत देश मे करीब 27 करोड़  गुर्जर निवास करने के बाबजूद विभिन्न मांगों को लेकर आंदोलन क्यों करने पड़ते है ? गुर्जर समाज एक वीर एवं बहादुर कौम है इस जाति ने प्राचीन काल से ही देश की सच्चे मन से सेवा की है देश की अखंडता और एकता को कायम रखने के लिये सरदार पटेल जैसे वीर शिरोमणि इस समाज मै पैदा हुए, परंतु आपसी एकता ना होने के कारण आज गुर्जरो को देश के विभिन्न हिस्सों में अपने हक के लिये लड़ना पड़ रहा है| एक नाम को अपवाद स्वरूप यदि छोड़ दिया जाय तो इस देश मे आज तक इस समाज के किसी ब्यक्ति को राज्यपाल नही बनाया गया| किसी विश्वविधालय का वी सी नही बनाया गया| एक दो नमों को छोड़ कर इस देश की एवम राज्यों की संवैधानिक संस्थाओं मैं मेम्बर नही बनाया गया इतना सौतेला व्यवहार क्यो ? इन सारी बातों पर चर्चा करने के लिये एवम समाज की एकता अखंडता को बनाये रखने तथा इस देश की अखंडता कायम रहे जैसा कि बाबा रामदेव जी भी एक वक्तव्य पहले दे चुके है इस समाज के बारे मे बता चुके है इन सारी बातों को मध्यनजर रखते हुए समाज के विभिन्न धर्मों को मानने वाले गुर्जर जाती के लोगो द्वारा एक मुहिम चला रखी है इस मुहिम को आगे बढ़ाते हुए पायलट भवन जयपुर में गुर्जर कर्मचारी अधिकारी परिषद  राजस्थान  की एवम जम्मू कश्मीर, मध्यप्रदेश से पधारे हुए प्रतिनिधि मंडल के साथ एक साझा मीटिंग आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता  श्री आर के गुर्जर जी ने की, मुख्य अतिथि श्रीमती गीता खटाना जिला प्रमुख दौसा जी रही, इस कार्यक्रम में समाज के प्रबुद्ध लोगो ने भाग लिया| प्रबुद्ध लोगों मे  राजस्थान बोर्ड के पूर्व चेयरमैन श्री वर्मा जी, RPSC मेम्बर रहे श्री बृह्म सिंह जी, डॉ कुलदीप जी, डॉ कैलाश जी, पी एस  अबाना जी, जयराम जी, परिषद के महासचिव पी डी गुर्जर जी,  श्री मंगलाराम खटाना जी पायलट भवन के मैनेजर बोकन जी बाकी परिषद के तमाम पदाधिकारी एवं सदस्य गण पधारे और अपने विचार रखे तथा जम्मू कश्मीर से जनाव मीर हुसैन गुर्जर सरपंच, जनाव गुलाम हैदर, आतिस मोहम्मद, फारुख मोहम्मद, अयूब मकबूल, अहमद बोकन, मास्टर फजल हुसैन, लाल हुसैन लोदा, हक नवाज अजाज हुसैन मोहम्मद कलीम राजेन्द्र गुर्जर  जंडेल सिंह मध्यप्रदेश से शामिल हुए|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें