Google+ Badge

Google+ Badge

Google+ Badge

शनिवार, 24 मार्च 2018

गुर्जरों ने धूमधाम से मनाया अंतरराष्ट्रीय गुर्जर दिवस

गुर्जरों ने धूमधाम से मनाया अंतरराष्ट्रीय गुर्जर दिवस

बिजोलिया कॉलेज का नाम विजय सिंह पथिक किया जाए वरना होगा आंदोलन : गुर्जर

मांडलगढ़| श्री देवनारायण मन्दिर प्रांगण हाड़ीकाखेड़ा में 22 मार्च अंतरराष्ट्रीय गुर्जर दिवस के अवसर पर गुर्जर इतिहास सम्मेलन का आयोजन किया गया, चक्रवर्ती गुर्जर सम्राट कनिष्क कसाणा के चित्र पर पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की गई| मांडलगढ़ गुर्जर समाज द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया| राष्ट्रीय वीर गुर्जर महासभा के प्रदेशाध्यक्ष कन्हैयालाल गुर्जर ने समाज को सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक क्षेत्र में आगे आने का आह्वान किया| अखिल भारतीय गुर्जर महासभा के कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष रामप्रसाद धाभाई ने कहा कि गुर्जर इतिहास के बिना भारतीय इतिहास ही शून्य है, उन्होंने समाज के युवाओं को संगठित होकर आगे बढ़ने की कहा| अखिल भारतीय गुर्जर महासभा मांडलगढ़ के ब्लॉक अध्यक्ष भैरूलाल गुर्जर पूर्व सरपंच ने कहा कि बिजौलिया के राजकीय महाविद्यालय का नाम विजय सिंह पथिक किया जाए वरना गुर्जर समाज ऐसा आंदोलन करेगा जिसे दुनिया देखेगी| इतिहासकार डॉ मोहनलाल वर्मा ने कहा कि चक्रवर्ती सम्राट कनिष्क महान कसाणा गौत्र के गुर्जर थे जिनके डर से चीन को भी दीवार बनानी पड़ी जिसे चीन की दीवार कहते है| साथ ही उन्होंने कहा कि गुर्जर समाज द्वारा हर वर्ष 22 मार्च को अंतरराष्ट्रीय गुर्जर दिवस मनाया जाता है जो हमारे गौरवशाली इतिहास का अनुपम उदाहरण है एवं हर वर्ष गुर्जर सम्राट मिहिरभोज प्रतिहार जयन्ती को मिहिरोत्सव के रूप में मनाने का आह्वान किया एवं कुषाण गुर्जर राजवंश के बारे में सभी को विस्तृत जानकारी दी| इतिहासकार शैतान सिंह गुर्जर ने कुषाण, हूण, सोलंकी, चौहान, प्रतिहार, तंवर, बैंसला, गहलोत, सिसोदिया आदि गुर्जर राजवंशों पर विस्तार से बताया कहा कि गुर्जर इतिहास का पुनर्लेखन जरूरी है एवं छत्रपति शिवाजी महाराज बैंसला गौत्र के गुर्जर थे एवं मैत्रक, गहलोत, सिसोदिया वंश भी गुर्जर था| इतिहासकार डॉ केआर गुर्जर ने कहा कि गुर्जर सम्राट कनिष्क कसाणा का साम्राज्य गुर्जर इतिहास का स्वर्णिम काल रहा है अब गुर्जर समाज को कौम के महापुरुषों से प्रेरणा लेकर एकबार फिर से गुर्जर समाज को इतिहास रचना होगा साथ ही कहा कि आज ही के दिन गुर्जर सम्राट कनिष्क कसाणा ने शक संवत की शुरुआत की जिसे भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय संवत का दर्जा दिया गया है| इतिहासकार शिवराज गुर्जर ने बगड़ावत शौर्य लोकगाथा  पर प्रकाश डाला| इतिहासकार रामानंद गुर्जर टोंक ने श्री देवनारायण भगवत गीता के बारे में सभी को बताया| अखिल भारतीय गुर्जर महासभा के जिलाध्यक्ष भैरूलाल भड़ाना ने गुर्जर समाज के इतिहास से प्रेरणा लेकर वर्तमान में हर क्षेत्र में आगे आने का आह्वान किया| राजस्थान गुर्जर महासभा के जिलाध्यक्ष नाथूराम गुर्जर ने आह्वान किया कि युवा पीढ़ी आर्थिक क्षेत्र में आगे आये और अपने उद्योग स्थापित कर इतिहास रचे| राजस्थान युवा गुर्जर महासभा के जिलाध्यक्ष नन्दलाल गुर्जर ने की समाज में राजनैतिक चेतना स्थापित की जाए एवं युवा शिक्षा को पहली प्राथमिकता देकर हर क्षेत्र में आगे आये और सभी से निवेदन किया कि गुर्जर समाज दूध के व्यवसाय को डेयरी उद्योग की तर्ज पर करके समाज मे आर्थिक क्रांति लाए| गुर्जर महासभा चित्तोड़गढ़ के जिलाध्यक्ष कमल गुर्जर ने कहा कि गुर्जर इतिहास से प्रेरणा लेकर समाज में व्याप्त कुरीतियों को खत्म किया जाए| नन्दलाल गुर्जर ने कहा कि सरकार गुर्जर इतिहास को पाठ्य पुस्तकों में शामिल करें| कार्यक्रम को सत्यनारायण गुर्जर जिला महामंत्री अखिल भारतीय गुर्जर महासभा, कन्हैयालाल गुर्जर अध्यक्ष गुर्जर धर्मशाला, सीआर नारायण लाल गुर्जर, सीआर शिवकुमार गुर्जर, सीआर रतन गुर्जर, कमल गुर्जर, देबीलाल गुर्जर जहाजपुर ब्लॉक अध्यक्ष गुर्जर महासभा, बन्नालाल गुर्जर, लक्ष्मण गुर्जर, ताराचंद गुर्जर, रघुनाथ गुर्जर, मेवाराम गुर्जर, छितरलाल गुर्जर, घीसालाल गुर्जर, महादेव गुर्जर सरपंच, लादूलाल गुर्जर सरपंच, चांदमल गुर्जर, सोराम गुर्जर, राधेश्याम गुर्जर अध्यक्ष युवा गुर्जर महासभा, गोपाल गुर्जर ब्लॉक अध्यक्ष देव सेना, जगदीश गुर्जर पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष, रामचंद्र गुर्जर, राजू गुर्जर, रामेश्वर गुर्जर, देबीलाल गुर्जर, अर्जुन गुर्जर, दुर्गेश गुर्जर, गोपाल गुर्जर, मुकेश गुर्जर, किसन गुर्जर आदि ने  सामाजिक एकता पर विचार रखे| कार्यक्रम का सफलतापूर्वक संचालन गुर्जर महासभा के जिलामहामंत्री लक्ष्मण गुर्जर ने किया| कार्यक्रम में हजारों की संख्या में गुर्जर समाजजन एकत्रित हुए|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें